,⚖️ जुर्म इंतेहा इतनी है।⚖️

अब किसी का खौफ नहीं बस अपनी मनमानी करते हैं
🔥जलता रहा शहर मेरा सत्ताधारी मोन रहे🤫
कुर्सी के लालच में ना जाने कितने गुनाह लोग करते रहे।
गुनाह करते रहे बेखौफ होकर और हम आपस में लड़ते रहे।
लुटती रही अस्मत यहां के गलियारों में,
गुनाहगार खुले आम घूमते रहे अब यहां के बाजारों में,
अब इंसानियत नहीं जमीर भी मर गया।
अब तो किसी का खौफ नहीं बस अपनी मनमर्जी करते हैं।

हर चीज यह बिक जाती है। बस खरीदार चाहिए।
जिसका रसूख जितना है उसको इतनी रियायत मिल जाती है।
अब जुल्म वहां होता है जहां कानून पनाह देता है
कानून की आंखों पर पट्टी लगी है इसीलिए वह सबूत की बात करता है।
बेगुनाहों को मिल जाती है सजा और गुनहगार खुलेआम घूमता रहता है।
जमीर को मारकर यह व्यवसाय किया जाता है।
लोगों को मरने के लिए छोड़ देते हैं बस अपना मुनाफा देखा जाता है।
हर चीज यहां बिक जाती है बस खरीदार चाहिए।
अब तो किसी का खौफ नहीं बस अपनी मनमर्जी करते हैं।

कीमत यहां कपड़ों की नहीं अब तो जिस्मों को देखा जाता है।
मरने की तो बात की बात है यहां तो जिंदा लोगों को मारा जाता है।
कीमत मिल जाए बस यही चाहिए सामान चाहे जैसा हो।,
डर का व्यापार है और डरा के किया जाता है।
हर चीज बिक जाती है। बस खरीदार चाहिए।

 अब तो जिंदगी का सौदा ऐसे होता है। जैसे कि एक छोटी सी बात है।
कम कीमत देने वालों को घृणा की दृष्टि से देखा जाता है।
यहां पर सामान्यता का अधिकार बस एक छलावा है।
मौत इतनी सस्ती हो चुकी है। जिंदा रहते ही खरीदा जाता है।
घर का व्यापार है और डराते किया जाता है।
अब किसी का फोटो बस अपनी मनमर्जी करते हैं।
जुर्म करने की इंतिहा बस इतनी है अब हर कोई जुर्म करता जाता है।


          ,🌹🌹  Rkumar,🌹🌹
English conversation poetry

 No one is afraid of anyone anymore

 शहरThe city keeps burning, my ruling Mohan.

 Not knowing how many people have been committing the greed of the chair.

 The crime continued without fear and we kept fighting among ourselves.

 There was a lull in the corridors here,

 Criminals roamed freely in the markets here,

 Now Jamir, not human, also died.

 Now nobody is afraid of anyone but just do what they want.

Everything is sold out.  Just want the buyer.

 Whose influence is as much, he gets such a concession.

 Now oppression is where the law harbors

 The law is blindfolded, which is why it speaks of evidence.

 The innocents get the punishment and the accused roam freely.

 This business is done by killing Jamir.

 People are left to die just to see their profits.

 Everything sold here is just what the buyer wants.

 Now nobody is afraid of anyone but just do what they want.

 Prices are not seen here, but the clothes are seen now.

 It is a matter of dying here, then people alive are killed.

 You get the price just like what you want.

 Fear is traded and fear is carried out.

 Everything is sold.  Just want the buyer.

Now life's deal is like this.  Like it's a small thing.

 Those giving lower prices are viewed with hatred.

 The right to generality here is just a smokescreen.

 Death has become so cheap.  It is bought while alive.

 There is home trade and intimidation is done.

 Now someone's photo is just the way they want it.

 There is a lot of crime to be committed, now everyone keeps committing the crime.

Comments

Post a Comment

Popular Posts